भारतीय भाषाओं द्वारा ज्ञान

Knowledge through Indian Languages

Dictionary

Definitional Dictionary of Zoology (English-Hindi) (CSTT)

Commission for Scientific and Technical Terminology (CSTT)

A B C D E F G H I J K L M N O P Q R S T U V W X Y Z

शब्दकोश के परिचयात्मक पृष्ठों को देखने के लिए कृपया यहाँ क्लिक करें
Please click here to view the introductory pages of the dictionary

< previous12345Next >

Rachis

रैकिस, प्राक्ष
पक्षियों में पर का वृंत, स्तंभ या कांड।

Radial canal

अरिय नाल
मेड्यूसाभ सीलेन्टेरेन्टों में जठरांत्र से चारों ओर निकलने वाली जठरचर्मीय नाल।

Radial symmetry

अरीय समामिति
वह अवस्था, स्थिति या दशा जिसमें केंद्र से होती हुई किसी भी खड़ी (उदग्र) काट द्वारा अंग या प्राणी को दो समान भागों मे बांटा जा सके; जैसे सैलेंटरेटा के पॉलिप अथवा मेडयूसा में या स्टारफिश में ।

Radial

अरीय, रेडियल
1. अर या त्रिज्या से संबंधित; विशेष रुप से निम्न संरचनाओं के लिए प्रयुक्त;
2. शूलचर्मियों (एकाइनोडर्मों) के अर।
3. ऐसा विदलन जिसमें कोरकखंड (ब्लास्टोमियर) अरीय सममिति में स्थित हों।
4.मछलियों में पखों (फिनों) को साधने वाली अंत:कंकालीय संरचना।
5. कीटों में पंखों की एक अनुप्रस्थ शिरा।

Radiobiology(radiation biology)

विकिरण जैविकी
जीवधारियों तथा जीवित कोशिकाओं पर विकिरण(रेडियोऐक्टीविटी) के प्रभावों के अध्ययन से संबंधित जीवविज्ञान की शाखा।

Radioloria

रेडिओलेरिआ
प्राय: समुद्री तथा प्लवकीय, अमीबीय प्रोटोजोआ प्राणीयों का एक समूह जिनमें आंतरिक सिलिकामय कंकाल के चारों तरफ धानीयुक्त जीवद्रव्य की परत रहती है जिसमें से चारों तरफ अनेक सूक्ष्म पादाभ निकले रहते हैं। इनके मृत कंकाल समुद्र की तली में जमा होकर निपंक (ooze) का निर्माण करते हैं।

Radio-ulna

अंत:बहि:प्रकोष्ठिका, रेडियोअल्ना
मेंढक आदि कुछ प्राणियों में अग्रबाहु (प्रकोष्ठ) की दोनों हड्डियों के जुड़ जाने से बनी संरचना।

Radius

बहिःप्रकोष्ठिका, रेडियस
1. चतुष्पादी कशेरुकियों में अग्रपाद के प्रकोष्ठ की दो हड्डियों में से एक (दूसरी को अल्ना कहते हैं )। उदा. मनुष्य में अंगूठे की ओर वाली हड्डी।
कीटों के पंख में एक प्रमुख अनुदैर्ध्य शिरा।

Radula

घर्षित्र, रेडुला
कई मोलस्कों (काइटन, घोंधा आदि) के मुख या आंत्र पथ में पाई जाने वाली रेती-जैसी संरचना जिसमें दाँतों की कई अनुप्रस्थ पंक्तियाँ होती हैं।

Rami valvularum

शाखा कपाटीका
पहली और दूसरी कपाटिका के निकटस्थ प्राय: कृश भाग जिसके द्वारा दूसरी कपाटिकाओं को कपाटधरों के साथ संलग्न किया जाता है।

Random sampling

यादृच्छिक प्रतिचयन
किसी जीव-समष्टि में प्रतिदर्श का भेदभाव-रहित चयन। चयन की इस विधि में समष्टि के सभि प्रतिदर्शों के चुने जाने का समान अवसर रहता है।

Raptorial leg

प्रसह पाद
शिकार को पकड़ने-जकड़ने के लिए रुपांतरित अग्रपाद।

Raptorial

प्रसह
शिकारी पक्षियों के लिए प्रयुक्त। प्रेइंग मैन्टिस जैसे कुछ परभक्षी कीटों में शिकार को पकड़ने वाले अग्रपादों के लिए प्रयुक्त।

Rasping mouth part

रेतन मुखांग
कीट मुखागों का एक प्रकार जो दाहिनी चिबुकास्थि के हासित होने से असममित होता है। ये संरचना में वेधन, चूषण तथा चर्वण मुखांगों के मध्यवर्ती किंतु, कार्य में रेतन और चूषण जैसे होते हैं। इनसे पौधों की बाह्य त्वचा को विदीर्ण करके स्रावित होने वाले रस को चूसा जाता है। उदा.-रसादों (थ्रिप) के मुखांग।

Ray

1. अर 2. रे, शंकुश
1.मछलियों के पखों (फिनों), दुम तथा क्लोम-कक्ष को साधने या सहारा देने वाली पतली अस्थिमय संरचनाएँ।
2. कुछ विशिष्ट एलास्मोब्रैंक मछलियों का सामान्य नाम। पृष्ठाधर तल से चपटा शरीर, अधर तल पर मुँह तथा गिलछिद्र और पृष्ठ तल पर स्थित आँख इनके प्रमुख लक्षण हैं।

Rearing

पालन पोषण
प्रयोगात्मक अथवा वाणिज्य उद्देशयों के लिए किसी जीव-समष्टि का प्राकृतिक अथवा कृत्रिम परिस्थितियों में परिवर्धन।

Recapitulation theory

पुनरावर्तन सिद्धांत
बेअर तथा हिकेल द्वारा प्रतिपादित सिद्धांत जिसके अनुसार कोई प्राणी अपने भ्रूणीय परिवर्धन काल में अपने पूर्वजों के विकास की प्रमुख अवस्थाओं से गुजरता है; जैसे, पक्षियों के भ्रूणों में मत्स्यपूर्वजों के क्लोम छिद्र का पाया जाना। आधुनिक विचारधारा के अनुसार अब यह सिद्धांत मान्य नहीं है।

Recent epoch

अभिनव युग
पृथ्वी के ऐतिहासिक कालक्रम में अंतिम हिमयुग से (लगभग बीस हजार वर्ष पहले से ) अब तक की अवधि जिसमें मानव का भी उद्भव हुआ।

Receptive apparatus

ग्राही उपकरण
संवेदी कोशिका अथवा कोशिकाओं से बने परिधीय अवयवों द्वारा अथवा उनके माध्यम से संचारित उद्दीपन के प्रति अनुक्रिया दिखाने वाले संवेदी अंग का भाग।

Receptor

ग्राही
संवेदी कोशिका या अंग जो उद्दीपनों को ग्रहण कर तदनुरुपी आवेगों को तंत्रिकाओं द्वारा आगे भेजती है। ये कई प्रकार के होते हैं और प्रत्येक में एक विशिष्ट प्रकार के उद्दीपन (जैसे ताप, प्रकाश, स्पर्श आदि) के प्रति ही अनुक्रिया होती है।
< previous12345Next >

Search Dictionaries

Loading Results

Follow Us :   
  Download Bharatavani App
  Bharatavani Windows App