भारतीय भाषाओं द्वारा ज्ञान

Knowledge through Indian Languages

Dictionary

Definitional Dictionary of Surgical Terms (English-Hindi) (CSTT)

Commission for Scientific and Technical Terminology (CSTT)

A B C D E F G H I J K L M N O P Q R S T U V W X Y Z

शब्दकोश के परिचयात्मक पृष्ठों को देखने के लिए कृपया यहाँ क्लिक करें
Please click here to view the introductory pages of the dictionary

Biopsy

जीव अति परीक्षा
शरीर से बाहर निकाले गये ऊत्तकों का सूक्ष्मदर्शी से परीक्षण करना। कुछ किस्म के रोगों के सही व प्रामाणिक निदान (correct & Authentic diagnosis) के लिये रोगग्रस्त अंग के ऊत्तकों को शरीर से बाहर निकाल कर सीधे देखना (Direct observation) आवश्यक हो जाता जाता है विशेषकर अर्बुदों के संदेह में। इन दशाओं में संबंधित रोगग्रस्त के अंग के कुछ भाग को निकाल लिया जाता है, इस दौरान यह ध्यान रखा जाता है कि निकाले गये भाग (Biopsy sample) में रोगज व स्वस्थ दोनों ऊत्तक हो जिससे परीक्षण के दौरान तुलना करने में आसानी हो। इन ऊत्तकों को शल्य कर्म (Surgical removal) या सुई द्वारा (FNAC Fine needle aspiration cytology) निकाला जा सकता है। दूसरी विधि (FNAC) पुटीय (Lystic) विकृतियों में विशेष तौर पर उपयोगी होती है। निकाले गये ऊत्तकों को तुरंत (freshly & as such) देखना उपयोगी नहीं होता बल्कि इनको सर्वप्रथम विशेष रूप से प्रयोगशालीय विधियों द्वारा तैयार (Prepared & fixed) किया जाता है। रोगों को पहचानने के लिये करवाये जाने वाले परीक्षणों में उत्तकीय परीक्षण को (Biopsy) अधिकांश मामलों में सबसे प्रमाणिक (Gold standard) माना जाता है।

Bisection

द्विविभाजन
दो भागों में बाँटना।

Bistoury

दीर्घ छुरिका/अर्ध चन्द्राकार छुरिका
अर्ध चन्द्राकार छुरिका जो विद्रधि के भेदन के लिये प्रयोग में लायी जाती है।

Bitelock

दंतकृत-बंधन
मोम के बने हुए आधार-पात्र को धारण करने के लिए बाइटलोक का प्रयोग होता है, जिसमें दांतों को मुख की स्थिति के अनुसार बाहर रखा जा सकता है।

Bitot’S Spots

विटोटस चिह्र
जीवसर व पृष्ठ के अभाव के कारण एक त्रिकोणाकार श्वेत बिंदु जो की श्वेतमंडल में श्वेत और कृष्ण मंडल सन्धि के पास पाया जाता है।

Black Out

द्वाविक अंधता
मस्तिष्क (Brain) में अस्थायी रूप से रक्त प्रवाह में कमी आने पर क्षणिक तमोदर्शन (temporary blindness) व संज्ञानाश (Memontary loss of consciousness)। यह दशा साधारणतः किशोरों व वृद्धों में ज्यादा पाई जाती है। मस्तिकीय रक्त प्रवाह में कमी केवल क्षणिक होने से कोई स्थायी परिवर्तन नहीं आ पाता। यह लक्षण हृदय रोग (cardiac problem), कैरोटिड एथिरोएक्लीरोसिस (carotid atheroscterosis) निम्नरक्त शर्करता (hypoglycemia), कुछ किस्म के सिरदर्द (Migraine) या मिर्गी (epilepsy) में भी मिल सकता है अतः समस्त शरीर का परीक्षण (Examination of the whole body) आवश्यक होता है। इस दशा के बार-बार या ज्यादा देर तक होने पर सिर की विशेष जांचे (EEG Electro encephalography and CT scan) करवा लेनी चाहिये। साधारणतः ये स्वयं बंद हो जाते हैं। (Self limiting) या कारणानुसार उपचार किया जाता है।

Black Vomit

कृष्ण-वर्ण-युक्त वमन/कृष्ण-वमन
पित ज्वर में अमाशन से निर्गत कृष्ण रक्त वमन एव रक्त मिश्रित वमन

Black Vomit Hematemesis

कृष्णरक्त वमन
किसी भी कारण से कृष्ण रंग के रक्त का वमन होना। कृष्ण रंग का वमन रक्त में अम्लीय रसों का प्रभाव होना दर्शाता है अर्थात रक्त का किसी भी वजह से आमाशयी गुहा में प्रवेश व जठर रस के मिशअरण से रक्त का हीमोग्लोबिन नामक वर्णक (pigment) परिवर्तित होकर हीमैटिन (Hematin) में बदल जाता है। साधारणतः अतिअम्लता की (Hyperacidity) वजह से आमाशय के भीतरी आवरण (mucosal lining) में होने वाले घाव (gastric ulcer) से रक्त स्राव होता है जो परिवर्तित होकर कृष्ण रंग का जाता है। अन्य कारण हैं औषधियों विशेषतः दर्दनिवारक, की अधिक मात्रा, ऊपरी आहारनाल (oesophagus) से होने वाला रक्त स्राव जो आमाशय में पहुंच जाये आदि।

Bladder

मूत्राशय वस्ति
वह थैली जिसमें मूत्र एकत्रित होता है। यह थैली सदृश संरचना उदर के निचले हिस्से में श्रोणि-मेखला के गुहीय भाग में स्थिति होता है। इसमें दोनों गुर्दों में बनने वाला मूत्र मूत्र वाहिकाओं के (ureters) माध्यम से आता है तथा वाहय मूत्र नलिका (urethra) के माध्यम से शरीर से बाहर निकाल दिया जाता है। मूत्राशय में लगभग 150 मि. लि. मूत्र एकत्रित हो जाने पर मूत्र त्याग की इच्छा (urge to micturate) होने लगती है। इस अवस्था में मूत्राशय के दीवार में स्थित मांसपेशियां संकुचित होती हैं और मूत्र शरीर के बाहर निकल जाता है। (2) पित्ताशय जिगर के पास स्थित थैली जिसमें जिगर में बनने वाला पित्त (bile) आकर एकत्रित है। पित्ताशय का संबंध नलिकाओं (billiary ducts) के माध्यम से ग्रहणी (Duodenum) से होता है। उचित संवेदना (proper stimulation) मिलने पर पित्ताशय की दीवार में स्थित मांसपेशियों में संकुचन होता है जिससे पित्त की अवकाशिका (lumen) में स्रावित हो जाता है।

Blair’S Incision

ब्लेयर छेदन
यह कर्णपूर्व ग्रन्थि विद्रधि के निकास (drainage) की एक पद्धति है, जिसमें त्वचा तथा अधस्तक् उतक पर (subcutaneous tissue) लम्ब छेदन (vertical incision) किया जाता है, लेकिन विद्रधि के निकास के लिए कर्णपूर्व ग्रन्थि को ढ़कने वाली गभीर प्रावरणी (deep fascia) पर अनुप्रस्थ छेदन (transverse incision) किया जाता है। इस प्रकार आनन-तन्त्रिका (facial nerve) को क्षति (injury) से बचाया जा सकता है।

Blalock Taussig Operation

ब्लेलॉक-टौसिंग शस्त्रकर्म
एक शस्त्रकर्म जो फैलो-चतुष्क (fallot tetralogy) में धमनी संकीर्णता (stenosis) में आराम पहुंचाने के लिये किया जाता है। इसमें अधोजत्रुक धमनी (subclavian artery) या फुप्फुस धमनी के साथ सम्मिलन (anastomosis) कर देते हैं, जिससे आक्सीजनीकरण के लिए फेफड़ों में अधिक रक्त पहुंच सकता है। विवृत हृद्-शस्त्रकर्म (open heart surgery) द्वारा फैलो चतुष्क के पूरी तरह से ठीक होने के कारण अब यह शस्त्रकर्म बहुत कम किया जाने लगा है।

Bland Diet

अक्षोभक या सादा आहार
ऐसा आहार, जिसमें मिर्च मसाले आदि नहीं होते और जो क्षोभक (irritating) भी नहीं होता। यह आहार सामान्य रूप से पेप्टिक व्रण (peptic ulcer) के रोगियों की चिकित्सा में दिया जाता है।

Blastomerotomy

प्रसुखंड विच्छेदन प्रसुखंड का विच्छेद करना। प्रसुखंडो (Blastomeres) का विच्छेदन। निषेचित अण्ड (Zygote) के प्रारंभिक बारंबार विखण्डन (Early claevage divisions) से बनने वाली एक सदृश कोशिकाओं को प्रसुखंड (Blastomeres) कहते हैं। ये कोशिकायें भौतिक व गुणीय रूप से हमजात (Physically & Qualitatively identical) होती हैं अतः इन कोशिकाओं को अलग करके समरूप जीवों (identical twins) को प्राप्त किया जा सकता है। बाद के विखंडन में परिवर्तनीकरण (Differentiation) होने लगता है, जिनको अलग करने पर अलग अलग अंग, न कि पूरा जीव, प्राप्त होते हैं। प्रसुखंडो का अलगाव व अतिरिक्त वृद्धि (Separation & further development) प्राकृतिक या कृत्रिम रूप (Experimentally in laboratory) से हो सकता है।

Bleeding

रक्तस्राव/रक्तस्रवण
शिरा का वेधन या भेदन होनेवाला रक्तस्राव; किसी भी कार से रक्त का स्राव। रक्त वाहिकाओं की दीवारों में हुए आघात में उनमें भरा हुआ रक्त बाहर बहने लगता है (extravastion of blood) क्योंकि वाहिकाओं के अंदर का दबाव वातावरणीय दबाव से ज्यादा होता है। धमनियों से होनो वाला रक्त-स्राव अत्यन्त तीव्र गीत से बाहर निकलता है (Spurty bleeding) जबकि शिराओं से रक्त रिसकर निकलता है (oozing of blood) क्योंकि धमनियों में रक्त दाब ज्यादा होता है। यही वजह है कि शल्य कर्म के दौरान धमनियों से होने वाले रक्त स्राव को रोकने के लिए एक विशेष चिमटी, जिसे धमनी सदंश (Artery forceps) कहते हैं, प्रयोग की जाती है। एक युवा मनुष्य के शरीर में लगभग 5 लीटर रक्त होता है जिसका लगभग 15 प्रतिशत तक हिस्सा शरीर से बाहर निकल जाने पर भी शरीर उसे झेल ले जाता है (Tolerated by dilutional compensation) यही वजह है कि एक यूनिट (लगभग 350 ml) रक्त का दान करने से शरीर पर कोई भी बुरा प्रभाव नहीं पड़ता है। 15 प्रतिशत से अधिक रक्तस्राव होने पर रक्ताघात (Haemorrhagic shock) की अवस्था आ जाती है। यह दशा साधारणतः वाहन दुर्घटनाओं (Automobile accidents) में देखने को मिलती है। वाह्य रक्त स्राव की तुलना में आंतरिक रक्त स्राव (internal bleeding) ज्यादा खतरनाक होती है क्योंकि इसमें रक्तस्राव की मात्रा का अंदाजा लगाना कठिन होता है। महत्वपूर्ण अंगों में रक्तस्राव (bleeding within organ) होने पर शल्यकर्म की आवश्यकता पड़ सकती है।

Bleeding Time

रक्तस्राव काल
रक्तस्राव बंद होने में लगने वाला समय।

Blepharal

वर्त्मगत

Blepharectomy

वर्त्मोच्छेदन
शस्त्र-क्रिया के द्वारा वर्त्म का छेदन करना।

Blepharitis Ciliaris

वर्त्म पक्ष्म-मूल-शोथ
वर्त्म पक्ष्म के मूल में होने वाला शोथ।

Blepharitis Parasitica

परजीवोत्पन्न वर्त्मशोथ
किमि के कारण होने वाला वर्त्मशोथ-जिसे क्रिमिग्रन्थि कहते हैं।

Blepharitis

वर्त्मशोथ
वर्त्म में होने वाला शोथ/सूजन। पलकों के स्वतंत्र किनारों (Free ending) बरौनियों (lash follicles) व पलकीय ग्रंथियों (Meibomian glands) के शोथ को वर्त्म-शोथ कहते हैं। इस दशा में पलकें लाल सूजनयुक्त जम जाती है। यह दो प्रमुख प्रकार का हो सकता है- घाव वाला (ulcerative blepharitis) जो जीवाणओं के संक्रमण से होता है। बिना घाव वाला (Non ulcerative blepharitis)सीबोरिया (Seborrhoea), सोरिएसिस (Psoriasis) या एलर्जी (Allergy) से हो सकता है।

Search Dictionaries

Loading Results

Follow Us :   
  Download Bharatavani App
  Bharatavani Windows App