भारतीय भाषाओं द्वारा ज्ञान

Knowledge through Indian Languages

Dictionary

Definitional Dictionary of Metallurgy (English-Hindi) (CSTT)

Commission for Scientific and Technical Terminology (CSTT)

A B C D E F G H I J K L M N O P Q R S T U V W X Y Z

Beryllium bronze

बेरीलियम कांस्य
एक ताम्र मिश्रातु जिसमें 2% Sn और 2.5% Be होता है। यह घर्षणरोधी होता है तथा उसका उपयोग कमानियों के लिए होता है।

Beryllium copper

बेरीलियम ताम्र
एक ताम्र मूलक मिश्रातु जिसकी ऊष्मा और विद्युत चालकता उत्तम होती है। यह अच्छी श्रांति तथा उत्तम संक्षारण प्रतिरोध दर्शाता है। इसमें 2-2.5% तक बेरीलियम होता है। इसका प्रयोग स्प्रिंगों, तारों तथा अचुंबकीय घटकों को बनाने में होता है। ज्वलनशील गैसों वाली खानों के लिए स्फुलिंग रहित उपकरणों को बनाने में भी इसका प्रयोग होता है।

Bessemer converter

बैसेमर परिवर्तित्र
देखिए– Converters के अंतर्गत

Bessemer process

बैसेमर प्रक्रम
इस्पात के उत्पादन की एक विधि। इसमें वायु को पिघले कच्चे लोहे में प्रवाहित किया जाता है। कच्चा लोहा, एक उच्चतासह पदार्थ के आस्तर वाले नाशपाती के आकार के बेलनाकार पात्र में रखा जाता है। इस पात्र को बेसेमर परिवर्तित्र कहते हैं। यह पात्र ऊपर से खुला रहता है जिससे गैसें निकल सकें। सिलिकन, मैंगनीज और कार्बन आदि अपद्रव्यों का हवा के झोंके में विद्यमान ऑक्सीजन के साथ ऑक्सीकरण से ऊष्मा उत्पन्न होती है। संपीडित वायु, परिवर्तित्र के अधस्तल पर स्थित ट्वीयरों द्वारा प्रवेश करती है। पार्श्व धमित प्रक्रम में ऑक्सीकारक गैसों को लोह-कुंड के पृष्ठ के निकट परिवर्तित कर पार्श्व भित्तियों में स्थिति ट्वीयरों से प्रविष्ट किया जाता है।
अम्ल बैसेमर प्रक्रम में गैनिस्टर का आस्तरण लगाया जाता है तथा कच्चे लोहे में उपस्थिति फॉस्फोरस अपरिवर्तित रहता है। क्षारकीय बेसेमर प्रक्रम (थॉमस प्रक्रम) में फॉस्फोरस को धातुमल के रूप में पृथक कर दिया जाता है। इसमें अम्ल गैनिस्टर के स्थान पर मैग्नीशिया अथवा डोलोमाइट का आस्तर लगाया जाता है और धमन आरंभ करने से पहले घान में चूना मिलाया जाता है। इसमें फॉस्फोरस की उच्च मात्रा वाले कच्चे लोहे का उपयोग किया जाता है और लोहे की तरलता को बनाए रखने के लिए आवश्यक अधिकांश ऊर्जा, फॉस्फोरस कें दहन से प्राप्त की जाती है।
इस प्रक्रम में धमन दो चरणों में होता है। पहला चरण अग्नि-धमन (Fire blow) कहलाता है जिसमें कार्बन मैंगनीज तथा सिलिकन का ऑक्सीकरण होता है। दूसरा चरण पश्च-धमन (After blow) कहलाता है जिसमें केवल फॉस्फोरस ऑक्सीकृत होकर चूने के साथ क्रिया कर कैल्शियम फॉस्फेट बनाता है। इसे धातुमल के रूप में पृथक कर लिया जाता है और इसका उपयोग उर्वरक के रूप में किया जाता है।

Beta iron

बीटा लोहा
अचुंबकीय ऐल्फा लोहा जो 768°C और 910°C के बीच पाया जाता है। इस नाम का प्रयोग अब बहुत कम होता है।
देखिए– Iron के अंतर्गत

Bethanizing

बीथेनन
इस्पात के तार पर यशद लेपित करने का विद्युत अपघट्य प्रक्रम। इस प्रक्रम की विशेषता यह है कि इसमें अविलेय ऐनाडों का प्रयोग किया जाता है। इसमें यशद-अयस्क अथवा ड्रोंस को सल्फ्यूरिक अम्ल में घोलकर विद्युत अपघट्य तैयार किया जाता है और प्राप्त विलयन का शोधन कर लिया जाता है।

Betterton-kroll process

बेटर्टन-क्रॉल प्रक्रम
देखिए–Kroll-Bretterton process

Betterton process

बेटर्टन प्रक्रम
सीसा बुलियन से अपद्रव्य के रूप में उपस्थित यशद को अलग करने की विधि। इसमें गलित सीसे में क्लोरीन गैस प्रवाहित की जाती है जिससे जिंक क्लोराइड, पृथक प्रावस्था के रूप में प्राप्त होता है जो सीसे मे अविलेय है।

Betts process

बेट्स प्रक्रम
सीसे का विद्युत अपघटनी परिष्करण। इसमें लेड फ्लुओसिलिकेट और मुक्त हाइड्रोफ्लुओसिलिसिक अम्ल, विद्युत अपघट्य के रूप में तथा सीसा-बुलिअन ऐनोड का और विद्युत-अपघटनी सीसा कैथोड का कार्य करता है। इस प्रक्रम का उपयोग अतिशुद्ध सीसे के उत्पादन में होता है जो वर्णक-उद्योग में इस्तेमाल होता है।

Bidery metal (Bidri metal)

Bidri metal

बिदरी धातु
बिदरी धातु
देखिए–Bidery metal
एक तन्य यशद मिश्रातु जिसमें 88.5% यशद, 5-6% सीसा और 5.9% तांबा होता है। भारत में इसका उपयोग घरेलू बर्तनों के बनाने में किया जाता है।

Billet

बिलेट
ब्लूमों के सतत संचकन अथवा तप्तकर्मण से उत्पन्न अर्ध-परिष्कृत उत्पाद। बिलेटों का प्रयोग परिष्कृत बेल्लित वस्तुओं के निर्माण में किया जाता है। इसका अनुप्रस्थ काट वर्गाकार अथवा लगभग वर्गाकार होता है। इस्पात के संदर्भ में इनका अनुप्रस्थ काट 130 मिमी0 x 130 मिमी0 होता है। अलोह धातुओं के बिलेटों के अनुप्रस्थ क्षेत्रफलों में बहुत भिन्नता होती है।
तुलना– Bloom

Bimetal

द्विधातु
विभिन्न तापीय-प्रसार गुणांक वाली एक पट्टी के रूप में संगलित दो भिन्न धातुएँ। ये धातुएँ इस प्रकार व्यवस्थित रहती हैं कि पट्टी, ताप-परिवर्तन के साथ विक्षेपित हो जाती है। द्विधातु का उपयोग विद्युत-परिपथों तथा स्वतः ताप-नियंत्रण के लिए होता है जिस कारण इसे तापस्थापी धातु भी कहते हैं।

Binder

बंधक
(1) संचकन शाला के संदर्भ में जल के अतिरिक्त वह माध्यम जो बालुका-संचन में बालू-कणों को बाँधने के लिए प्रयुक्त होता है।
(2) चूर्ण-धातुकर्मिकी में इस शब्द का प्रयोग संहतकारी माध्यम के लिए होता है। यह कोई ऐसा पदार्थ होता है जिसे चूर्ण में मिलाने पर उसकी संहत-सामर्थ्य बढ़ जाती है और जो सिन्टरण के समय छितरा जाता है।
इस शब्द का प्रयोग कम गलनांक वाले ऐसे पदार्थ के लिए भी होता है जिसे चूर्ण-मिश्रण में मिलाने पर चूर्ण-कण परस्पर जुड़ जाते हैं।

Binding metal

बंधक धातु
उत्तम संचकन गुणों वाला यशद मिश्रातु जिसमें 93.5% यशद 2.8% क्रोमियम और 3.1% सीसा होता है। इसका उपयोग तार के रस्सों को बाँधकर स्लिंग बनाने में होता है।

Biotite

बायोटाइट
सामान्यतया मिलने वाला अभ्रक जो मैग्नीशियम, ऐलुमिनियम और पोटैशियम का सिलिकेट, [K₂ HAl₂ (SiO₄)₃ (Mg Fe)₆ (SiO₄)₃], होता है, इसमें लोहे के लवण भी भिन्न-भिन्न मात्राओं में उपस्थित रहते हैं।

Birmasil

बिरमासिल
एक मिश्रातु जिसमें 0.1% Cu, 10-13% Si, 2.5-3.5% Ni, 0.2% Ti, 0.6 Fe, 0.5% Mn और 0.6% Mg होता है। यह मजबूत और संक्षारणरोधी होता है। सामान्य प्रयोग के अतिरिक्त इसका उपयोग वायुयानों और मोटर इंजनों के निर्माण के लिए होता है।

Birmetal

बिरमैटल
ऐलुमिनियम मिश्रातुओं की श्रेणी जिनमें Cu, Si, Mn, Cr, के अलावा Mg तथा Zn भी होते हैं। इनका संक्षारण प्रतिरोध, ऊष्मा उपचार अथवा काल कठोरण गुण और वेल्डनीयता उत्तम होते हैं। इनका उपयोग टैंकों, संरचनात्मक अवयवों और वायुयानों को बनाने में होता है।

Birmingham platina

बर्मिंघम प्लैटिना
एक भंगुर, रजत श्वेत, यशद मिश्रातु जिसमें 25% तांबा और शेष यशद होता है। इसका उपयोग बटनों, आभूषणों आदि में होता है। इसे प्लैटिना भी कहते हैं।

Bismuthinite

बिस्मथिनाइट
बिस्मथ सल्फाइड जो विषमलंबाक्ष समुदाय में क्रिस्टलित होता है। कठोरता 2, आपेक्षिक घनत्व 6.4। यह सीसा और तांबा खनिजों के साथ शिराओं में पाया जाता है। इसे बिस्मथ-ग्लांस भी कहते हैं।

Bituminous coal

बिटुमिनी कोयला
सामान्य वाणिज्य कोयला जो पीली धुएँदार ज्वाला के साथ जलता है। कुछ बिटुमिनी कोयले कोकिंग और अन्य अकोकिंग कोयले होते हैं। कोकिंग कोयले से कोक बनाया जाता है। बिटुमिनी कोयला, नीले-काले-से धूसर काले रंग का होता है। यह एक के बाद एक भिन्न मोटाइयों का चमकीला कोयला, द्युतिहीन कोयला और चारकोल सदृश पदार्थ की पट्टियों का बना होता है। जिन्हें शैल विज्ञान में विट्रेन्, ड्यूरेन और फ्यूसेन कहते हैं।

Search Dictionaries

Loading Results

Follow Us :   
  Download Bharatavani App
  Bharatavani Windows App