भारतीय भाषाओं द्वारा ज्ञान

Knowledge through Indian Languages

Dictionary

Definitional Dictionary of Metallurgy (English-Hindi) (CSTT)

Commission for Scientific and Technical Terminology (CSTT)

A B C D E F G H I J K L M N O P Q R S T U V W X Y Z

< previous1234567Next >

Babbitt metal

बैबिट धातु
बंग मूल के बंग ऐन्टिमनी-ताम्र मिश्रातु जिनका उपयोग बेयरिंगों के लिए होता है। आरंभ में इस शब्द का अर्थ था- किसी सख्त खोल पर मृदु धातु का लेप चढ़ाना। किंतु अब इसका प्रयोग बंग मूल की बेयरिंग धातुओं के पूरे वर्ग को व्यक्त करने में होता है। मुख्यतः इसमें 3.5-15 प्रतिशत ऐन्टिमनी, 2-6 प्रतिशत तांबा और शेष बंग होता है। किसी किसी मिश्रातु में 1 प्रतिशत कैडमियम भी होता है।

Back draft

उत्क्रमित टेपर
एक उलटी शुंडाकृति जो साँचे से पैटर्न को बाहर आने से रोकता है।

Backing roll (back up roll)

पृष्ठक बेल्लक
देखिए– Roll के अंतर्गत

Bahn metal

बाहन धातु
मृदु घर्षणरोधी सीसा मिश्रातु जिसमें 0.7% कैल्सियम, 0.6% सोडियम और अतिसूक्ष्म मात्रा में निकैल होता है। इसका उपयोग रेलवे बेयरिंगों में होता है।

Bainite

बेनाइट
ऑस्टेनाइट का एक अपघटन उत्पाद जिसमें फेराइट तथा कार्बाइड के पुंज रहते हैं। सामान्यतया इसके बनने का ताप-परास अत्यंत सूक्ष्म पर्लाइट के बनने के ताप से कम तथा उस ताप से अधिक होता है जब ठंडा करने पर मार्टेन्साइट बनना प्रारंभ हो जाता है। यदि बेनाइट, ताप के ऊपरी परास में बने तो वह देखने में पंख (Feathery) जैसा होता है। परंतु यदि ताप के निचले परास में बने तो वह सूच्याकार तथा देखने में पायित (Tempered) मार्टेन्साइट जैसा होता है।

Baking sand

पृष्ठक बालू
देखिए– Sand के अंतर्गत

Balanced draught

संतुलित प्रवात
देखिए– Draught के अंतर्गत

Balanced steel

संतुलित इस्पात
देखिए– Semikilled steel

Balling

गुलिकायन
देखिए– Agglomeration के अंतर्गत

Ball mill

गुलिका पेषणी
एक घूर्णी मिल जो देखने में बेलनाकार अथवा बेलनाकार शंकु जैसी होती है। इस मिल का प्रयोग सुखे तथा गीले शैलों या खनिजों को पीसने में होता है। इस मिल के पेषण माध्यम में इस्पात अथवा ढलवाँ लोहे की गोलियों का प्रयोग किया जाता है।

Banded structure

पट्टित संरचना
1. ऐसी संरचना जिसमें भिन्न घटक अथवा प्रावस्थाएँ, समांतर पर्तों या पट्टों (bands) में पृथक हो जाती है, जैसे पट्टित हेमैटाइट क्वार्टजाइट और बिटुमनी कोयले में। इस प्रक्रम को पर्लाइट पट्टन भी कहते हैं।
2. तप्त कर्मण किए गए धातुओं और मिश्रातुओं के संदर्भ में इस शब्द का अर्थ है– सिल्लियों के जमते समय कार्बन, फॉस्फोरस और गंधक का पृथक होना और तत्पश्चात उनका समांतर पट्टों बैंडो में संरेखित हो जाना।

Banking

निष्क्रियण

वात्या भट्टी द्वारा लोह-उत्पादन की वह अवस्था जिसमें उत्पादन रुका हुआ हो किंतु भट्टी में सिर्फ कोक भरा हो। इस विधि में लोह अयस्क का डालना रोककर सिर्फ कोक और चूने का पत्थर डालना शुरू किया जाता है। वायु के झोंके को तब तक प्रवाहित करते रहते हैं जब तक निष्क्रियण के लिए प्रयुक्त कोक की पहली तह ट्वीयर की सतह तक नहीं पहुँच जाती। तत्पश्चात् प्रवाह को पूर्ण रूप से बंद कर संपूर्ण धातुमल को भट्टी से निकाल दिया जाता है। इसके बाद भट्टी को पूरी तरह बंद कर दिया जाता है ताकि हवा का भट्टी में प्रवेश न हो और कोक न जल सके। यह गर्म कोक भट्टी को फिर से चालू करने के लिए उपलब्ध रहता है। इसे पूर्ण निष्क्रियण भी कहते हैं।

Barba’s law

बार्बा नियम
पदार्थों के तनन परीक्षण में विभंग पर प्रतिशत दैर्ध्यवृद्धि किसी एक पदार्थ के लिए स्थिर होती है। और इस पर प्रतिदर्श के विस्तार का कोई प्रभाव नहीं पड़ता है. यदि

गेज लंबाई
——————————– = स्थिरांक
अनुप्रस्थ परिच्छेदित क्षेत्र

Barffing process

बार्फन प्रक्रम
कुछ इस्पात उत्पादों पर की जाने वाली एक पृष्ठ-परिष्कृति क्रिया। इससे पृष्ठ पर लोहे के चुंबकीय ऑक्साइड (Fe3O4) की पर्त जमा हो जाती है जो पृष्ठ को निष्क्रिय कर देती है। जिन वस्तुओं का परिष्करण करना हो उन्हें पहले साफ कर लिया जाता है। फिर उन्हें वायुरुद्ध कक्ष में रखकर मंद लाल होने तक गरम किया जाता है। तत्पश्चात् 4216-7027 Kg/m² दाब पर अतितप्त भाप प्रविष्ट की जाती है। पर्त को आर्द्रतारोधी बनाने के लिए उसका रंजन कर तेल अथवा मोम के साथ उपचार किया जाता है।

Baryte (Barytes)

बैराइट (बैराइटीज)
एक प्राकृत क्रिस्टलीय बेरियम सल्फेट जो सफेद या कभी-कभी रंगीन सुविकसित विषमलंवाक्ष क्रिटलों में मिलता है। आपेक्षिक घनत्व 4.5, कठोरता 2.5-3.5। विशुद्ध बैराइट रंगहीन या श्वेत होता है परंतु अशुद्धियों के कारण इसमें भूरी या नीली आभा आ जाती है। इसका उपयोग बेरियम यौगिकों के स्रोत, वर्णक, लिथोपोन और कागज-भरक के रूप में होता है। इसे बैराइटीज या हैवीस्पार भी कहते हैं।

Base metal

1. अपधातु 2. आधार धातु

1. वह धातु जो हवा में गरम करने पर ऑक्सीकृत हो जाती है, जैसे तांबा, सीसा, जस्त, आदि। इसके विपरीत स्वर्ण, प्लैटिनम आदि बहुमूल्य धातुएँ हवा में ऑक्सीकृत नहीं होती हैं।
2. वैद्युत धातुकर्मिकी में विद्युत रासायनिक श्रेणी के निचले सिरे पर स्थित धातु जो उत्कृष्ट धातु से पृथक होती है। इन धातुओं का इलेक्ट्रोड विभव कम होता है।
3. संधान और कर्तन के लिए प्रयुक्त धातु।
4. पटलित धातुओं में, दो धातुओं की बनी चादरों में अधिक मोटी धातु।
5. पट्टित या लेपित होने वाली धातु।
6. किसी मिश्रातु में प्रमुख धात्विक तत्व जिसके नाम पर मिश्रातु का नामकरण किया जाता है। जैसे ऐलुमिनियम आधार धातु।
7. विद्युत लेपन में जिस धातु का लेप चढ़ाना हो या वह धातु जिस पर लेप चढ़ाना हो।

Basic Bessemer process

क्षारकीय बैसेमर प्रक्रम
देखिए–Bissemer process के अंतर्गत

Basicity ratio

क्षारकता अनुपात
किसी अयस्क में भार की दृष्टि से क्षारकीय घटकों और अम्लीय घटकों का अनुपात। प्रमुख क्षारकीय घटक Ca⁰ और Mg⁰ होते हैं, जबकि प्रमुख अम्लीय घटक Si⁰₂ और Al₂⁰₃ होते हैं। इस शब्द का प्रयोग लोह उद्योग में अयस्क संपिंडों और धातुमतों में विद्यमान क्षारकों और अम्लों के आपेक्षिक अनुपात को व्यक्त करने में किया जाता है।

Basic process

क्षारकीय प्रक्रम
इस्पात बनाने की एक क्षारकीय विधि जिसमें प्रयुक्त भ्राष्ट्र के अंदर मैग्नेसाइट, डोलोमाइट, आदि क्षारकीय उच्चतापसह पदार्थ का लेप लगा होता है। इस्पात का परिष्करण क्षारकीय धातुमल की उपस्थिति में किया जाता है। इस प्रक्रम की विशेषता यह है कि इसमें उत्पन्न धातुमल में चूने की मात्रा अधिक रहती है तथा धान के साथ क्रिया के समय गंधक और फॉस्फोरस, धातुमल के रूप में पृथक हो जाते हैं।

Basic refractory

क्षारकीय उच्चतापसह
देखिए– Refractory के अंतर्गत
< previous1234567Next >

Search Dictionaries

Loading Results

Follow Us :   
  Download Bharatavani App
  Bharatavani Windows App