भारतीय भाषाओं द्वारा ज्ञान

Knowledge through Indian Languages

Dictionary

Definitional Dictionary of Metallurgy (English-Hindi) (CSTT)

Commission for Scientific and Technical Terminology (CSTT)

A B C D E F G H I J K L M N O P Q R S T U V W X Y Z

< previous1234Next >

Ideal critical diameter

आदर्श क्रांतिक व्यास
इस्पात का अधिकतम व्यास जिसे आदर्श शमन द्वारा केंद्र पर पूर्णतया कठोरित किया जा सकता है।

Ilmenite

इल्मेनाइट
टाइटैनियम लोह अयस्क (FeO TiO₂) जिसमें मुख्यतः लोहे और टाइटैनियम के ऑक्साइड होते हैं। इसमें लोहे और टाइटैनियम का अनुपात परिवर्ती होता है। इसमें कुछ मैग्नीशिंया भी रहता है। अक्षारकीय आग्नेय चट्टानों और कुछ रेतों में यह अनेक स्थानों से सहायक अवयव के रूप में पाया जाता है। टाइटैनियम की मात्रा 18–24% या इससे अधिक भी हो सकती है।

Immersion coating

निमज्जी विलेपन
डुबाकर किसी वस्तु पर लेप चढ़ाने का प्रक्रम। उदारणार्थ इस्पात पर गलित यशद या वंग का लेपन।

Immersion heating

निमज्जी तापन
गलित सीसा, संगलित लवण अथवा तेल आदि के अवगाह में गरम करना ताकि वस्तु समान रूप से गरम हो जाए।

Imersion plating

निमज्जी लेपन
बाहरी विद्युत वाहक बल का प्रयोग किए बिना अपधातु पर किसी अन्य धातु का पतला लेप चढ़ाना। जिस धातु पर लेप करना हो उसे लेपक धातु के उपयुक्त लवण के विलयन में डुबाया जाता है। इस विधि से अधिक धन विद्युती धातु को कम धन विद्युती धातु पर निक्षेपित किया जा सकता है। कम ऋण विद्युती धातु, विलयन में धुलकर लेपक धातु को अवक्षिप्त कर देती है। उदाहरणार्थ जब कॉपर सल्फेट विलयन में लोहे या जस्ते की चादर के टुकड़े को डुबाया जाता है तो इस पर तांबे की परत निक्षेपित हो जाती है।

Impact extrusion

प्रतिघात उत्सारण
देखिए– Extrusion के अंतर्गत

Impact test

प्रतिघात परीक्षण
आकस्मिक प्रतिघात अथवा आवेगी भार के प्रति किसी पदार्थ के प्रतिरोध को निर्धारित करने का परीक्षण। यह आंतरिक दरारों, रेणु-परिसीमा, अपद्रव्यों अथवा अंतर्विष्टों आदि की उपस्थिति के कारण पदार्थ की खाँच-सुग्राहिता को व्यक्त करता है। अतः इसे खाँच दंड परीक्षण अथवा खाँच प्रतिघात परीक्षण भी कहते हैं। प्राप्त परिणामों को अवशोषित उर्जा के फुट-पौंड में अथवा नमूने को तोड़ने के लिए आवश्यक आघातों की संख्या में व्यक्त किया जाता है। यह परीक्षण प्रायः नीचे दी गई दो विधियों द्वारा किया जाता है :–
शार्पी परीक्षण (Charpy test) — इसमें 10 मिमी0 x 10 मिमी0 x 55 मिमी0 मानक विनिर्देशों के नमूने को साधारण दंड के रूप में भारित कर, दो निहाइयों के बीच क्षैतिजतः रखा जाता है। फिर प्रादोलीय हथौड़े को निश्चित ऊँचाई से खाँच के उल्टी तरफ से गिराया जाता है। नमूने के संविदारण के लिए आवश्यक ऊर्जा, उत्थान कोण (Angle of rise) का फलन होती है और उसे डिग्री या जूल में अर्धवृताकार पैमाने पर पढ़ा जा सकता है जिससे प्रतिघात-मान ज्ञात हो जाता है। इसे साधारण-दंड–परीक्षण (Simple beam test) भी कहते हैं।
आइजोड परीक्षण (Izod test)– इसमें 10 मिमी0 X10 मिमी0 X75 मिमी0 के मानक सेन्टीलीवर नमूने पर निश्चित ऊँचाई से प्रादोलीय लोलका (Swinging pendulum) द्वारा आघात किया जाता है। नमूने का मानक-खाँच 45° और गहराई 2 मिमी0 होती है। इससे नमूने पर आकस्मिक प्रतिघात होता है। नमूने के संविदारण के लिए आवश्यक ऊर्जा अंशांकित पैमाने से ज्ञात की जाती है जिसमें घर्षण-संकेतक लगा रहता है। इसे सेन्टीलीवर-दंड-परीक्षण भी कहते हैं।

Imperfection

अपूर्णता
धातु-जालकों की नियमित त्रिविम सममिति में पाए जाने वाले दोष। ये प्रभंश, रिक्तिका अंतराकाशी परमाणु या प्रतिस्थापनी परमाणु मौजेक संरचना अथवा अर्धचालकों में अतिरिक्त इलेक्ट्रॉन या छिद्र के कारण उत्पन्न होते हैं।

Impervite

इंपर्वाइट
तापयुग्म आदि में संरक्षी नलिकाओं के रूप में प्रयुक्त एक उच्चतापसह पदार्थ। संघटन में यह सिलीमेनाइट के समान है। इसका उपयोग 1100°C से अधिक ताप पर उपयुक्त रहता है।

Impoverishment

दरिद्रण
ऑक्सीकरण, वाष्पीकरण, गलनिक पृथक्करण अथवा ठोस प्रावस्था में अन्य परिवर्तनों से किसी मिश्रातु अथवा मिश्रातु के स्थान-विशेष से किसी घटक का निकल जाना।

Impregnation

संसेचन
1. सिंटरित संहति के रंध्रों को स्नेहक से भरने का प्रक्रम। सिंटरित अथवा असिंटरित संहति के रंध्रों को कम गलनांक की धातु अथवा मिश्रातु से भरना।
2. चूर्ण धातु मैट्रिक्स में अधात्विक पदार्थ के कणों को मिलाने का प्रक्रम जैसा हीरक संसिक्त औजारों में होता है।
3. सिंटरित संहति पर अन्य धातु का लेप करनें का प्रक्रम इसमें संहति को दूसरी धातु के चूर्ण में दबाकर गरम किया जाता है।
4. किसी धातु के पृष्ठ पर क्रोमियम, कार्बन आदि को विसरित करने का प्रक्रम।
5. किसी संचक में उपस्थित रंध्रों को दाब पर किसी द्रव पदार्थ द्वारा भरने का प्रक्रम। यह द्रव पदार्थ जमने पर रंध्रों को बंद कर देता है।
तुलना — Infiltration

Impurity

अपद्रव्य
किसी धातु अथवा इस्पात में वे अवांछित तत्व अथवा यौगिक जो किसी अभिप्राय से नहीं मिलाए जाते है बल्कि स्वतः उपस्थित रहते हैं।

Inclusion count

अंतर्वेश गणना
इस्पात में समाविष्ट वस्तु की मात्रा को ज्ञात करने का साधन। इसके लिए अनेक विधियों का प्रयोग किया जाता है। समावेशों के सूक्ष्म मात्रा में उपस्थित रहने पर भी यांत्रिक गुणधर्मों में कहीं अधिक ह्रास हो जाता है, अतः यह उल्लेख करना आवश्यक है कि धातुओं और मिश्रातुओं में उनकी कितनी मात्रा उपस्थित है। प्रति इकाई क्षेत्रफल में विद्यमान समावेशों की संख्या, आमाप और आकार का अध्ययन, समावेश-गणना कहलाता है। सामान्यतया इन विधियों को राष्ट्रीय एवं अंतर्राष्ट्रीय मानकों में निर्दिष्ट किया जाता है।
देखिए– Inclusion भी

Inclusion

अंतर्वेश
1. धूल, धातुमल या अन्य अपद्रव्यों के कण जो पिंडन के समय धातुओं में मिल जाते हैं अथवा धातुओं के अंदर अभिक्रियाओं के फलस्वरूप बनने वाले ऑक्साइड, सल्फाइड, सिलिकेट आदि भी समावेश के अंतर्गत आते हैं। इस्पात में पाए जाने वाले समावेश मुख्यतः मैंगनीज सल्फाइड और सिलिकेट धातुमल और ऐलुमिना है। पीतलों में पाए जाने वाले समावेशों में ड्रास (ऑक्साइड अथवा सिलिकेट) औकर चारकोल प्रमुख हैं।
2. अन्य ढलवाँ धातुओं और मिश्रातुओं में भी सुघट्य विरूपण और विशेष रूप से तप्त-कर्मण के समय समावेश पाए जाते हैं। इनमें से सुघट्य समावेश की धातु की प्रवाह की दिशा में दैर्ध्यवृद्धि हो जाती है और भंगुर समावेश टूट जाते हैं। समावेशों के वितरण आकार आमाप और स्वभाव का धातु या मिश्रातु के यांत्रित गुणधर्मों पर प्रभाव पड़ता है। समावेश के अध्ययन का धातुकर्म में विशेष महत्व है और उनके वर्गीकरण के लिए मानक धातु-चित्रण विधियों का प्रयोग होता है। हानिकारक प्रभावों के कारण समावेशों के निराकरण के लिए विशेष गलन-तकनीकों का प्रयोग किया जाता है जिनमें निर्वात अथवा विशेष गालकों का इस्तेमाल होता है।
3. देखिए– Weld defect

INCO (International Nickel Company of Cannada) (flash smelting processs)

इन्को (स्फुर-प्रगलन प्रक्रम)
एक दमक प्रगलन प्रक्रम जिसमें विशेष निर्मित ज्वालकों द्वारा उच्च वेग ऑक्सीजन धारा की सहायता से सल्फाइड सांद्र और गालक को सीधे भ्राष्ट्र में अंतः क्षिप्त किया जाता है। प्रगलन-वायुमंडल किंचित ऑक्सीकारक होता है। इसके फलस्वरूप कुछ आयरन सल्फाइड का आयरन ऑक्साइड में ऑक्सीकरण हो जाता है जो सिलिका फ्लक्स के साथ मिलकर धातुमल बना देता है। शेष आयरन सल्फाइड और कॉपर सल्फाइड मिलकर मैट बनाते है। बहिर्गैस में SO₂ की सांद्रता बहुत अधिक होती है जिसे लाभकारी दृष्टि से प्राप्त किया जा सकता है।
तुलना– Outokumpu flash smelting process

Incoloy

इन्कोलॉय
निकैल मिश्रातुओं की एक श्रेणी जिनमें निकैल, क्रोमियम और तांबा होता है। इनके अतिरिक्त अल्प मात्रा में कार्बन, मैंगनीज, सिलिकन, ऐलुमिनियम, टाइटेनियम और मॉलिब्डेनियम भी होते है। यह ऊष्मा और संक्षारणरोधी होता है। इसका उपयोग ऊष्मा विनिमायक, अम्ल-क्षार टंकियों, आच्छदों आदि, में किया जाता है।

Incomplete combustion

अपूर्ण दहन
देखिए– Combustion के अंतर्गत

Incomplete fusion

अपूर्ण संगलन
देखिए– Weld defect के अंतर्गत

Incomplete penetration

अपूर्ण अंतर्वेधन
देखिए– Weld defect के अंतर्गत

Inconel

इन्कोनेल
ऊष्मारोधी निकैल मिश्रातु जिसमें 80% निकैल, 15% क्रोमियम और 5% लोहा होता है। यह अत्यंत मजबूत, अत्यन्त संक्षारणरोधी और उच्च ताप पर उत्तम ऑक्सीकरणरोधी होता है। सल्फ्यूस के वातावरण में 815°C के ऊपर इसका उपयोग नहीं हो सकता है।
< previous1234Next >

Search Dictionaries

Loading Results

Follow Us :   
  Download Bharatavani App
  Bharatavani Windows App