भारतीय भाषाओं द्वारा ज्ञान

Knowledge through Indian Languages

Dictionary

Definitional Dictionary of Metallurgy (English-Hindi) (CSTT)

Commission for Scientific and Technical Terminology (CSTT)

A B C D E F G H I J K L M N O P Q R S T U V W X Y Z

< previous123Next >

Wagner’s alloy

वैग्नर मिश्रातु
उच्च तन्यता और आधातवर्ध्यता वाला मिश्रातु जिसमें 0.8 प्रतिशत विस्मथ, 10 प्रतिशत ऐन्टिमनी, 3 प्रतिशत जस्ता और 1 प्रतिशत तांबा होता है। इसका उपयोग खोखले बर्तनों, छुरी काँटे, भोजन पात्रों और आभूषणों में होता है।

Warner’s metal

वार्नर धातु
एक तन्य और आधातवर्ध्य वंग मिश्रातु जिसमें 37 प्रतिशत वंग, 26 प्रतिशत विस्मथ, 26 प्रतिशत निकैल और 11 प्रतिशत कोबाल्ट होता है। इसका उपयोग भोजन पात्रों और खोखले, पात्रों में होता हैं।

Warpage

विंकुचता
1. किसी भी उत्पाद के कर्मण के दौरान अथवा कर्मण के बाद, उसके आकार में उत्पन्न अवांछनीय विरूपण।
2. किसी संचक में पिंडन और सामान्य ताप के बीच संकुचन के अतिरिक्त अन्य प्रकार का विरूपण।

Water quenching

जल शमन
देखिए– Quenching

Wear resistance

क्षरणरोध
संघट्ट, अपघर्षण, घर्षण, संक्षारण और ऊष्मा के कारण होने वाले विनाशकारी प्रभावों का प्रतिरोध करने की किसी धातु की क्षमता। उच्च कार्बन संचक इस्पात और कुछ मिश्रातु इस्पात क्षरणरोधी होते हैं। मार्टेम्परन,. ऑस्टेम्परण जैसे ऊष्मा उपचारों तथा प्रेरण-कठोरण, कार्बुराइजन, नाइट्राइडन जैसे पृष्ठ उपचारों द्वारा क्षरणरोध बढ़ाया जा सकता है।

Weathering

अपक्षयन
अयस्क को लंबी अवधि तक वायुमंडल में खुला छोड़ देना जिसके फलस्वरूप सल्फाइड अंश के ऑक्सीकरण से सल्फेट प्राप्त होता है। प्राप्त सल्फेट वर्षा में धुल जाते हैं।

Wedge gate

वेज द्वार
देखिए– Gate

Welch’s alloy

वेल्च मिश्रातु
कम गलनांक वाला वंग मिश्रातु जिसमें 52 प्रतिशत वंग और 48 प्रतिशत रजत होता है। इसका उपयोग दाँतों को भरने में किया जाता है।

Weldability

वेल्चनीयता
किसी वेल्डिंग प्रक्रम द्वारा धातुओं के जुड़ने की क्षमता ताकि प्राप्त बेल्डित संधि संतोषजनक कार्य करे। यह क्षमता इन बातों पर निर्भर करती है। (क) धातु के भागों का संघटन (ख) पूरक छड़ का संघटन (ग) वेल्डन प्रक्रम में प्रयुक्त विशिष्ट तकनीक।

Weld cracking test

वेल्ड-दरारण परीक्षण
संयत नियंत्रित अवस्थाओं में प्रायोगिक वेल्ड बनाने के परीक्षण। यह मूल धातु अथवा इलेक्ट्रोड के परीक्षण के लिए किया जाता है। ये परीक्षण कई प्रकार के होते हैं।

Weld decay

वेल्ड क्षय
स्टेनलेस इस्पात के वेल्डिंग से उत्पन्न होने वाला दोष। वास्तविक वेल्ड के निकट मूल धातु के क्षेत्र में उत्पन्न ताप से क्रोमियम कार्बाइड बन जाता है जो रेणु सीमाओं पर जमा हो जाता है। यह संलग्न क्रिस्टल क्षेत्रों से, क्रोमियम के निष्कासन द्वारा ही संभव है अतः इन क्षेत्रों का संक्षारण-प्रतिरोध समाप्त हो जाता है। जब बाद में वेल्डिंत क्षेत्रों को संक्षारण के प्रभाव में लाया जाता है तो जिन क्षेत्रों से क्रोमियम का ह्रास हो गया हो वे टूट जाते हैं। इस प्रभाव को वेल्ड क्षय कहते हैं।
देखिए– Intergranular fracture भी

Weld defect

वैल्ड दोष
वेल्डित संधि में उत्पन्न होने वाले दोष। इनका वेल्ड की दृढ़ता और गुणता पर विपरीत प्रभाव पड़ता है। प्रमुख वेल्ड दोष निम्न है:–
(a) दरार (अनुदैर्ध्य) [Cracks (Longitudinal)]
धातु के पृष्ठ पर अथवा पृष्ठ के नीचे पाई जानी वाली असतता अथवा विदर।
(ख) गर्त दरार (Crater crack)
गर्त के तल से उत्पन्न विकीर्ण दरार जो वेल्ड-धातु में फैल जाती है। वेल्ड धातु के शीतलन-संकुचन में पर्याप्त अवरोध के कारण यह दरार उत्पन्न होती है।
(ग) अंतर्वेश (Inclusions)
द्रवधातु-कुंड के ठोस होने पर उसमें फंसे अधात्विक कण।
(घ) अपूर्ण-गलन (Incomplete fusion)
द्रवधातु-कुंड के मूल धातु के साथ पूर्णतः संगलित न हो पाना।
(ङ) अपूर्ण वेधन (Incomplete penetration)
किसी बहुल दौर (Multirum) वेल्ड में पाया जाने वाला अंतराल जबकि वेल्ड धातु पूर्ववर्ती दौर बनाए गए विदर को नहीं भर पाती है। विकिरणलेख में यह अंतरायिक अथवा सतत रेखा के रूप में प्रकट होता है जिससे दोनों सिरे लहरदार अथवा एक सिरा सीधा और दूसरा लहरदार होता हैं।
(च) संरध्रता (Porosity)
अनेक वात छिद्रों अथवा रिक्तियों की उपस्थिति के कारण उत्पन्न वेल्ड धातु की रंध्रयुक्त अवस्था।
(छ) अधः कर्त्तन (Undercutting)
इस दोष में बहुत अधिक धातु के पिघलने के कारण वैल्ड संधि पर एक गर्त बन जाता है जो वेल्ड धातु द्वारा नहीं भर पाता।

Weld joint

वेल्डित संधि
वेल्डिंग से प्राप्त विभिन्न प्रकार की संधियाँ जो निम्नलिखित हैं–
मूठ वेल्डित संधि (But welded joint)
मूठ वेल्डिंग के फलस्वरूप उत्पन्न संधि। इस प्रकार की संधि में दो-धात्विक भागों के सिरे परस्पर एक ही तल में जुड़ें रहते हैं।
बलि वेल्डित संधि (Lap welded joint)
बलि वेल्डन के फलस्वरूप उत्पन्न संधि जिसमें अतिव्याप्त भाग परस्पर संयुक्त किए जाते हैं।
देखिए — Lap weld भी
सीवन वेल्डित संधि (Scam welded joint)
सीवन-वेल्डन के फलस्वरूप उत्पन्न संधि।
देखिए– Secm welding
बिंदु वेल्डित संधि (Spot welded joint)
बिंदु वेल्डन के फलस्वरूप उत्पन्न संधि।
देखिए– Welding के अंतर्गत spot welding भी

Welding

वेल्डिंग
किसी धातु अथवा मिश्रातु के दो या अधिक भागों को परस्पर संयुक्त करना। संगलन के लिए ऊष्मा, पृष्ठों को गलाकर प्राप्त की जाती है। दो भागों को जोड़ने के लिए कभी कभी दाब अथवा अतिरिक्त धातु का उपयोग किया जाता है। प्रमुख वेल्डिंग विधियाँ निम्नलिखित हैं–
आर्क वेल्डिंग (Arc welding)
दाब रहित, गलन-वेल्डिंग की इस विधि में विद्युत-आर्क से ऊष्मा प्राप्त की जाती है। आर्क, वेल्ड धातु तथा इलेक्ट्रोड के बीच अथवा दो इलेक्ट्रोडों के बीच उत्पन्न किया जाता है।
आत्मजन्य वेल्डिंग (Autogenous welding)
इस वेल्डिंग प्रक्रम में संयुक्त किए जाने वाले धातु पृष्ठों को गलित अवस्था में वेल्ड किया जाता है। इसमें भरक धातु अथवा दाब का उपयोग नहीं किया जाता। इसमें भरक धातु और आधार-धातु के बीच असमानता के कारण होने वाला गैल्वेनी अथवा विद्युत-अपघटनी संक्षारण नहीं होता है।
इलेक्ट्रॉन-पुंज वेल्डिंग (Electron beam welding)
निर्वात में किया जाने वाला हाल में विकसित गलन-वेल्डिंग प्रक्रम। इसमें वेल्डित किए जाने वाले हिस्सों को उच्च निर्वातित कक्ष में रखकर इलेक्ट्रॉन पुंज से ऊर्जा प्रदान की जाती है। इसमें ऊर्जा को आवश्यकतानुसार नियंत्रित किया जा सकता है जिससे अपेक्षाकृत कम क्षेत्र में पर्याप्त वेधन किया जा सकता है।
वैद्युत गैस वेल्डिंग (Electrogas welding)
यह वैद्युत धातुमल वेल्डिंग के समान है जिसमें धातुमल के स्थान पर आयनित गैस का प्रयोग होता है।
वैद्युत धातुमल वेल्डिंग (Electroslag welding)
निगमित आर्क वेल्डिंग से मिलता-जुलता उच्च उत्पादन वेल्डिंग प्रक्रम जिसमें संदूषण को रोकने के लिए वेल्ड कुंड, गलित धातुमल से ढका रहता है। यह धातुमल विद्युत-प्रतिरोध द्वारा गर्म किया जाता है तथा इलेक्ट्रोड धातुमल में गलकर संधि पर विक्षेपित हो जाता है।

Welding defect

वेल्डिंग दोष
देखिए– Weld defect

Welding electrode

वेल्डिंग इलेक्ट्रोड
ऐसा इलेक्ट्रोड जो वेल्डिंग के समय, आर्क अथवा प्रतिरोध तापन के द्वारा ऊष्मा उत्पन्न करता है। ये निम्नलिखित प्रकार के होते हैं:–
1. धातुआर्क वेल्डिंग में तार अथवा छड़ के रूप में प्रयुक्त अथवा अनाच्छादित पूरक धातु जिससे होते हुए इलेक्ट्रोड धारक से आर्क में धारा प्रवाहित होती है।
2. कार्बन आर्क वेल्डिंग में कार्बन अथवा ग्रेफाइट की छड़ जिससे होते हुए इलेक्ट्रोड धारक और आर्क के बीच धारा-प्रवाहित होती है।
3. परमाण्विक हाइड्रोजन वेल्डिंग में दो टंगस्टन छड़ों में से एक जिनके बिंदुओं के बीच आर्क उत्पन्न होता है।
4. प्रतिरोध वेल्डिंग में छड़, चक्र अथवा रूपदा जिससे धारा प्रवाहित होती है और कार्यवस्तु पर दाब डाला जाता है।

Welding flux

वेल्डिंग गालक
कोई पदार्थ अथवा मिश्रण जो रासायनिक क्रिया द्वारा ठोस पदार्थ के गलन में सहायता करता है। वेल्डिंग में प्रयुक्त वह पदार्थ जो गलन क्षेत्र में ऑक्साइडों, नाइट्राइडों के बनने को रोकता है और जो अवांछनीय पदार्थ बन गए हो उनका निराकरण करता है। धातु आर्क वेल्डिंग में गालक, इलेक्ट्रोड के विभिन्न अवयवों को आक्सीकृत होने से बचाता है। यह वेल्ड, धातु की शीतलन-दर को मंद करता है और उन्हें वायु के संपर्क से बचाता है।

Welding rod

वेल्डिंग छड़
1.गैस-वेल्डिंग में छड़ अथवा तार रूप में प्रयुक्त पूरक धातु।
2. आर्क वेल्डिंग में अनुपभोज्य इलेक्ट्रोड जो सामान्यतः टंगस्टन का बना होता है।

Welsback

वेल्सबाक
एक स्वजलनी मिश्रातु जिसमें 70 प्रतिशत सीरियम और 20 प्रतिशत लोहा अथवा 60 प्रतिशत सीरियम, 30 प्रतिशत लोहा, और शेष लैथनम, इट्रियम, और यूरोपियम होता है। इसका उपयोग गैस लाईटर पत्थर में होता है।

Wettability

क्लेदनीयता
1. द्रव द्वारा ठोस को गीला करने की क्षमता।
2.बेयरिंग भागों और स्नेहकों के बीच बंधुता।
< previous123Next >

Search Dictionaries

Loading Results

Follow Us :   
  Download Bharatavani App
  Bharatavani Windows App